विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार केंद्र से सकरात्मक उतर नहीं मिलने से मायूस

Prime news ads 1

पटना में बुधवार को पत्रकारों से चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि शुरूसे ही बिहार को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग केंद्र सरकार से करते आ रहे हैं तथा इस मुद्दे को मैंने कभी नहीं छोड़ा और विशेष राहत की मांग कर रहे हैं। जब केंद्र में कांग्रेस की सरकार थी तो विशेष दर्जा के लिए कमिटी भी बनी थी, लेकिन उस पर कुछ नहीं हुआ। इन बातों पर चर्चा करते -करते थक जाने के बाद मुख्यमंत्री ने कहा कि अब इस मामले में केंद्र को निर्णय लेना है। उन्होंने कहा कि राज्य का विकास होना चाहिए इसलिए शुरू से ही हम सबकी मांग रही है।

इधर,जातीय जनगणना के सम्बन्ध में पूछे जाने पर नीतीश कुमार ने कहा कि हम सबने बात की है। मामला सुप्रीम कोर्ट में चला गया है। अब राज्य के लिए कुछ करना है तो हम सभी बैठकर बात करेंगे और आपसी सहमति से इसे आगे बढ़ाएंगे। जातीय जनगणना को लेकर राजद लगातार मुख्यमंत्री को घेर रही है। मुख्यमंत्री भी जातीय जनगणना के पक्ष में खड़े हैं। अब देखना है कि केंद्र सरकार इनकी दो मांगो में से कौन-सी मांग मानती है या मुंगेरीलाल के हसीन सपनों कि तरह रह जाती है, यह आनेवाला पल ही बताएगा।

Super market ads

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.