एक ही चिता पर सेना में नायक रहे पिंटू कुमार और पत्नी का हुआ अंतिम संस्कार, सेना के अधिकारियों ने नम आंखों से दी विदाई

Banner 1

रिपोर्ट विशाल वर्मा

गया। कैमूर जिला अंतर्गत राष्ट्रीय राजमार्ग के दुर्गावती थाना अंतर्गत क्षेत्र में हुए सड़क हादसे में फौज में नायक के पद पर रहे पिंटू कुमार, उनकी पत्नी काजल सिंह और पांच साल के पुत्र रेहान की मौत हो गई थी। घटना तब हुई थी जब वे उतरप्रदेश के मेरठ से छुटटी लेकर अपने घर गुरारू थाना क्षेत्र डीहा गांव को लौट रहे थे। उनके नए घर का गृहप्रवेश की तैयारी करने को लेकर परिवार समेत आ रहे थे था।

किन्तु नियती को कुछ और ही मंजूर था। कैमूर जिले में एक गिट्टी लदा ट्रक उनके मारुति स्विफ्ट डिजायर कार पर आ गिरा। इस घटना में फौजी, उनकी पत्नी और पुत्र की मौके पर मौत हो गई। हालांकि संयोग से कार में ही ड्राइविंग सीट के बगल में बैठी पुत्री श्रेया इस घटना में बाल-बाल बच गई।
घटना की जानकारी होते ही गुरारू स्थित पैतृक गांव में कोहराम मच गया। परिजनों का रो-रोकर बुरा हाल हुआ था। तो गांव वालों की इस घटना से दुःखी थे। इसके बाद सोमवार को फौजी और उनके परिवार का अंतिम संस्कार सैन्य सम्मान के साथ विष्णुपद स्थित श्मशान घाट में किया गया।

इस दौरान फौजी और उनकी पत्नी का अंतिम संस्कार एक ही चिता पर हुआ तो वहां मौजूद रहे हर किसी की आंखें नम हो गई। सैनिकों ने परम्परागत तरीके से सलामी दी। फौजी पिंटू कुमार को सैन्य अधिकारियों ने गार्ड ऑफ ऑनर से अंतिम विदाई दी।
इस मर्माहत घड़ी में मौके पर मौजूद फौजी पिंटू कुमार के भाई संजीत कुमार ने बताया कि गृह प्रवेश का कार्यक्रम था और उसी की तैयारियों को लेकर छुटटी लेकर वे आ रहे थे।. संजीत कुमार ने बताया कि गुरारू थाना के डीहा में पैतृक आवास है। बताया कि विष्णुपद श्मशान घाट में अंतिम संस्कार किया गया। यहां उपस्थित सैन्य अधिकारी्र जवान, रिश्तेदार एवं गांव के लोगों ने नम आंखों से विदाई दी।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.