न्यायालय का आदेश, डकैती और गैंगरेप के आरोपी रविन्द्र को अन्तिम सांस तक जेल में रहने की सजा सुनाई

Banner 1

औरंगाबाद से विनय प्रसाद साहू

औरंगाबाद के अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश षष्ठम सह विशेष न्यायाधीश पाक्सो ऐक्ट के विवेक कुमार ने वैचुअल कोर्ट में सजा के बिन्दु पर अभियुक्त रविन्द्र मुसहर को डकैती और गैंगरेप के आरोप में सश्रम आजीवन कारावास ,अन्तिम सांस लेने तक सुनाई है ।
अधिवक्ता सतीश कुमार स्नेही ने बताया कि अभियोजन कि ओर से एपीपी शिवलाल मेहता और अभियुक्त कि ओर से अमरेन्द्र नारायण सिंह ने भाग लिया।अभियुक्त विडियो कोलिंग के माध्यम से जेल के वीसी रूम से हाजीर हुआ ।दोनों पक्षों के अधिवक्ता वैचुअल बहस पूरी की थी ।18 जून 21को अभियुक्त रविन्द्र मुसहर को दोषी करार दिया गया था,अभियुक्तों की पहचान ,टी आई पी, पहचान परेड से की गई थी, वहीं पीड़िता के समर्थन में नो साक्षीयो ने गवाही दी थीं।
विशेष न्यायाधीश विवेक कुमार ने राज्य सरकार को आदेश दिया कि पीड़िता को सात लाख प्रतिकर दिया जाए,धारा 395 में दस साल की सज़ा और दस हजार जुर्माना लगाया गया ।धारा 376डी+पाक्सो ऐक्ट में अन्तिम सांस तक सश्रम आजीवन कारावास और पचास हजार जुर्माना लगाया गया है ।वैचुअल कोर्ट में ये सबसे बड़ी सजा सुनाई गई है इससे समाज में अच्छा संदेश जाएगा।

Comments are closed, but trackbacks and pingbacks are open.